जानें एक किडनी पर इंसान कैसे जिंदा रहता है|living With One Kidney

Rate this post

living With One Kidney: किडनी, हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है जो हमें स्वस्थ और जीवंत रखने में मदद करता है। एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर हम किडनी को सुरक्षित रख सकते हैं और जीवन की गुणवत्ता को बढ़ा सकते हैं। इस लेख में, हम जानेंगे कि एक किडनी पर जिंदा रहने का उपाय क्या है

Table of Contents

किडनी का कार्य

किडनी शरीर से विषैले पदार्थों को निकालती है और मूत्र बनाकर उसे शरीर से बाहर निकालती है। इसके अलावा, यह रक्तचाप को नियंत्रित करती है, विटामिन D को सक्रिय करती है, और हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में मदद करती है।

मूत्र निर्माण:

किडनी हमारे रक्त से विषैले पदार्थों को निकालकर मूत्र बनाती हैं, जिसे हमारे शरीर से बाहर निकाला जाता है। मूत्र बनाने से निकलने वाले विषैले पदार्थों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं:

  • यूरिया
  • क्रेटिनीन
  • एमोनिया
  • ब्लड के इलेक्ट्रोलाइट्स

इन पदार्थों को बाहर निकालकर किडनी शरीर को स्वस्थ रखती हैं।

रक्तचाप नियंत्रण:

किडनी रक्तचाप को नियंत्रित करने का भी कार्य करती है। यह शरीर के अधिशेष जल की मात्रा को बनाए रखने के साथ-साथ रक्तचाप को सामान्य स्तर पर बनाए रखने में मदद करती है।

रक्तकोशिकाएँ बनाना:

किडनी रक्तकोशिकाओं को बनाने का भी कार्य करती है जो शरीर में नए रक्त कोशिकाओं की जरूरत होती है।

अम्ल स्तर का नियंत्रण:

यह अम्ल स्तर को बनाए रखकर शरीर को सही प्रकार से काम करने में मदद करती है।

बॉडी फ्लूइड्स का बनाये रखना:

किडनी शरीर के ताजगी और बॉडी फ्लूइड्स का संतुलन बनाए रखने में मदद करती है।

किडनी खराब होने के कारण

किडनी हमारे शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण अंग हैं, और इनकी खराबी कई कारणों से हो सकती है।

उच्च रक्तचाप:

अगर आपका रक्तचाप नियमित रूप से उच्च रहता है, तो इससे किडनी पर बुरा असर पड़ सकता है। यह रक्तचाप किडनी की रक्षा की कठिनाई कर सकता है जिससे यह खराब हो सकती है।

डायबिटीज:

डायबिटीज के मरीजों में किडनी समस्याएं होने का खतरा बढ़ जाता है। उच्च रक्त शर्करा से किडनी को नुकसान हो सकता है और उसकी सही कामकाजी में बाधा डाल सकता है।

अधिक नैत्रिक खाद्यों का सेवन:

अधिक मात्रा में नैत्रिक खाद्यों का सेवन करने से भी किडनी को नुकसान हो सकता है। अधिक सॉल्ट, शराब, और तला हुआ भोजन न केवल किडनी के लिए हानिकारक हैं बल्कि इससे शरीर में उच्च रक्तचाप और डायबिटीज का खतरा भी बढ़ता है।

अनेमिया:

किडनी की कमी से हेमोग्लोबिन बनाने में कमी हो सकती है, जिससे शरीर में खून की कमी हो जाती है और अनेमिया हो सकती है।

उरिया और क्रेटिनीन की वृद्धि:

किडनी की खराबी से यूरिया और क्रेटिनीन का संचार हो सकता है, जिससे इनकी मात्रा बढ़ जाती है और यह शरीर में हानिकारक हो सकता है।

उरिन में सामान्य रूप से समाहित खाद्य को बाहर निकालने में कठिनाई:

किडनी की खराबी से मूत्र में खाद्य को सामान्य रूप से बाहर निकालने में कठिनाई हो सकती है, जिससे शरीर में खाद्य समाहित हो जाता है।

एक किडनी में खराबी होने पड़ दूसरी किडनी का कार्य

मानव शरीर में किडनी का सिस्टम एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो शरीर से अतिरिक्त पदार्थों को बाहर निकालने का कार्य करता है। हर व्यक्ति के शरीर में दो किडनी होती हैं, और इनमें से एक किडनी के खराब होने पर दूसरी किडनी का महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

अधिशेष जल संतुलन:

दूसरी किडनी में खराबी होने पर यह कोशिश करती है कि शरीर के अधिशेष जल का संतुलन बना रहे ताकि उससे निकलने वाले विषैले पदार्थों का प्रबंध हो सके।

रक्तचाप नियंत्रण:

दूसरी किडनी उच्च रक्तचाप को सामान्य स्तर पर बनाए रखने के लिए प्रयासरत है। इससे शरीर के रक्तचाप को संतुलित रखने में मदद होती है।

रक्तकोशिकाएँ बनाना:

दूसरी किडनी में भी रक्तकोशिकाएँ बनाई जाती हैं ताकि शरीर में नए रक्तकोशिकाएँ उत्पन्न हो सकें।

एक किडनी पर जिंदा रहने का उपाय

किडनी, हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है जो हमें स्वस्थ और जीवंत रखने में मदद करता है। एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर हम किडनी को सुरक्षित रख सकते हैं और जीवन की गुणवत्ता को बढ़ा सकते हैं।

सही पानी की मात्रा:

किडनी के स्वस्थ रहने के लिए पानी की सही मात्रा बहुत महत्वपूर्ण है। यह मदद करता है विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में और मूत्र निर्माण में। रोजाना कम से कम 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए।

स्वस्थ आहार:

किडनी के लिए स्वस्थ आहार बहुत महत्वपूर्ण है। कम नैत्रिक खाद्य, सुगंधित तेलों, और प्रोसेस्ड खाद्यों की बजाय स्वस्थ और ताजगी भरे आहार को प्राथमिकता दें।

नियमित व्यायाम:

नियमित व्यायाम से शरीर का रक्त संचारित होता है और मांसपेशियों को मजबूती मिलती है, जिससे किडनी की स्वास्थ्य में सुधार होता है। योग, ट्रेडमिल, या किसी भी शौक में रुचि लेने के लिए समय निकालें।

स्वस्थ वजन:

अत्यधिक वजन के साथ साथ अधिक आलसी बैठकर रहना किडनी को अत्यधिक दबाव डाल सकता है। सही वजन बनाए रखने के लिए सही आहार लें और नियमित व्यायाम करें।

स्ट्रेस कम करें:

अधिक स्ट्रेस किडनी के लिए हानिकारक हो सकता है। योग और ध्यान के माध्यम से स्ट्रेस को कम करने का प्रयास करें।

तंबाकू और अल्कोहल से बचें:

तंबाकू और अल्कोहल का सेवन किडनी के लिए हानिकारक हो सकता है। इनसे दूर रहें या कम से कम सेवन करें।

नियमित चेकअप:

नियमित चेकअप से किडनी की स्वास्थ्य की निगरानी रखना महत्वपूर्ण है। डॉक्टर से सलाह लेकर नियमित रूप से आपकी स्वास्थ्य की जाँच कराएं।

समय पर आवश्यक इलाज:

किडनी समस्याओं के संकेतों को नजरअंदाज न करें, और यदि कोई समस्या हो, तो समय पर इलाज करें। लापरवाही आपकी स्वास्थ्य को बिगाड़ सकती है।

पॉजिटिव दिनचर्या:

सकारात्मक और सुखद दिनचर्या की अनुसंधान करना भी किडनी के स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है। हंसना, मुस्कराना, और सकारात्मक रहना सही मायने में हमें स्वस्थ बनाए रख सकता है।

समापन: living With One Kidney

यदि एक किडनी में खराबी होती है, तो शरीर की सामान्य क्रियाओं को सुनिश्चित करने के लिए दूसरी किडनी प्रयासरत रहती है। यह उचित पोषण, स्वस्थ जीवनशैली, और नियमित चेकअप के माध्यम से सुनिश्चित होता है कि शरीर की सार्वभौमिक स्वास्थ्य को साधारित किया जा सकता है।

FAQs

क्या एक किडनी में खराबी होने पर दूसरी किडनी को भी प्रभावित कर सकता है?

उत्तर: हां, एक किडनी में समस्या होने पर दूसरी किडनी को भी प्रभावित कर सकती है, क्योंकि वे एक तंतु की साझेदारी करती हैं जो शारीर के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है।

क्या किडनी खराब होने पर दूसरी किडनी को बचाने के लिए कौन-कौन सी चीजें की जा सकती हैं?

उत्तर: स्वस्थ जीवनशैली अपनाना, सही खानपान अपनाना, रक्तचाप को नियंत्रित करना, और नियमित चेकअप कराना दूसरी किडनी को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

क्या एक किडनी खोने पर दूसरी किडनी इसकी स्थानीय संभावना है?

उत्तर: हां, एक किडनी को खोने पर दूसरी किडनी में बढ़ी स्थानीय संभावना हो सकती है, लेकिन इसकी योग्यता व्यक्ति के स्वास्थ्य, आयु, और अन्य कारकों पर निर्भर करती है।

किडनी की स्थिति कैसे जांची जाती है?

उत्तर: डॉक्टर आपके रक्त और मूत्र परीक्षण के माध्यम से किडनी की स्थिति की जाँच कर सकते हैं, जो क्रिएटिनाइन, ब्लड यूरिया नाइट्रोजन, प्रोटीन, रक्त शर्करा, और अन्य पैरामीटर्स को मापते हैं।

क्या किडनी खराब होने पर भूख में कमी हो सकती है?

उत्तर: हां, किडनी समस्याएं भूख में कमी का कारण बन सकती हैं, क्योंकि ये प्रोटीन उत्सर्जन को प्रभावित कर सकती हैं जो भूख को नियंत्रित करने में मदद करता है।

क्या दो किडनीयाँ होने पर भी किडनी दान की संभावना है?

उत्तर: हां, किडनीयाँ दान की जा सकती हैं, लेकिन इसकी योग्यता महत्वपूर्ण अंशों पर निर्भर करती है जैसे कि रक्त सम्बंधित टाइप, आयु, और अन्य चिकित्सा इतिहास।

क्या दो किडनीयों में कोई बाधा हो सकती है?

उत्तर: हां, दो किडनीयों में कोई बाधा हो सकती है, जो विभिन्न कारणों, जैसे कि स्वरूपण, संकुचन, या ट्यूमर के कारण हो सकती है।

क्या किडनी की समस्याओं में पानी की मात्रा को नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है?

उत्तर: हां, पानी की सही मात्रा का सेवन करना किडनी स्वस्थ्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह मूत्र प्रणाली को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

क्या किडनी स्वास्थ्य में सुधार के लिए योगासनों का प्रयोग किया जा सकता है?

उत्तर: हां, कुछ योगासन किडनी स्वास्थ्य को सुधारने में मदद कर सकते हैं, लेकिन इस पर पहले डॉक्टर से परामर्श करना सुरक्षित होता है।

क्या किडनी बीमारी से बचाव के लिए कैसे जीवनशैली बदल सकती है?

उत्तर: स्वस्थ खानपान, नियमित व्यायाम, धूम्रपान और अत्यधिक शराब का परिहार, स्वस्थ रक्तचाप और शुगर का प्रबंधन किडनी स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

living With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidneyliving With One Kidney

Leave a comment